बेबस सा खड़ा मानवता वो भी आग में जलना और तलवार से कटना सीख लिया Breking News today

आंखे जब खुली मेरी तो जग सुना था ,आंखों में अपनो के खोने के आंसू थे पर पोछने वाला न था ,एक नुकसान होता तो सह जाता मेरा दिल ,हर तरफ धुंआ उठ रहा था पर शहर में कोई कंधा देने वाला न था ,सोचता हूँ हमने खुद को इंसान कहना क्यो सीख लिया ,हर कोई अपने ही अपनो पर पर्दा डालना सीख लिया ,कोई राम तो कोई भीम तो कोई अल्लाह तो लाल सलाम सीख लिया ,बेबस सा खड़ा मानवता वो भी आग में जलना और तलवार से कटना सीख लिया ...Life Story

बेबस सा खड़ा मानवता वो भी आग में जलना और तलवार से कटना सीख लिया Breking News today


Post a Comment

0 Comments